नेपोटिज्म की बहस पर सोनम कपूर बोली : लोगों को इसका मतलब तक नहीं पता ।

नेपोटिज्म की बहस पर सोनम कपूर बोली : लोगों को इसका मतलब तक नहीं पता ।

Spread the love

(मुंबई),फिल्म इंडस्ट्री में एक बार फिर से नेपोटिज्म का मुद्दा उठा है। इस साल बॉलीवुड में नेपोटिज्म पर काफी जायदा चर्चा हुई है। कई सिलेब्रिटीज ने इस पर अपना बयान दिया है। लेकिन इस बार इस मुद्दे के उठते ही बॉलीवुड एक्ट्रेस सोनम कपूर ने ऐसा बयान दिया जिसे सुनकर सभी दंग रह गए। उनका मानना है कि ज्यादातर लोगो को इस शब्द का मतलब ही नहीं पता है।

अभिनेता अनिल कपूर की बेटी सोनम कपूर का कहना है कि इस साल पूरी फिल्म इंडस्ट्री नेपोटिज्म पर बातचीत करने के लिए शामिल हो गई। लेकिन मैं पूरे समय हंसती रही। क्यूंकि कहा जाता है कि “अधूरा ज्ञान खतरनाक होता है। इस दौरान मैं सोच रही थी कि क्या मुझे इसका मतलब ट्विटर पर समझाना चाहिए। मेरी मम्मी कहती थीं कि इन सब से दूर रहो। मेरा मानना था कि लोग कैसे इसका मतलब नहीं समझ सकते। सोनम कपूर ने ये बात एक ऑनलाइट चैट शो के दौरान कही।

बॉलीवुड में नेपोटिज्म की बहस उस समय छिड़ी है जब अभिनेत्री कंगना रनौत ने फिल्मकार करण जौहर को उनके टॉक शो पर “फलागबेरेर ऑफ़ नेपोटिस्म” का नाम दिया था।

सोनम ने कहा कि “नेपोटिज्म का मतलब बहुत ही कम लोगों को पता है। मुझे बहुत खुशी होगी कि मैं इसका मतलब लोगों को समझा सकू। जब किसी रिश्ते की वजह से आपको काम या नौकरी मिलती है तो उसे नेपोटिज्म कहते हैं। अगर आप किसी की गर्लफ्रेंड या बॉयफ्रेंड हैं या आप किसी के दोस्त हैं या किसी का परिवार हैं और इस वजह से आपको काम मिल रहा है तो यह भी नेपोटिज्म है।अगर आपके पास समय है तो आप डिक्शनरी या ऑनलाइन जाकर इसका मतलब समझना चाहेंगे तो आपको नेपोटिज्म का मतलब समझ आ जाएगा। यह फिल्म इंडस्ट्री और बाकि सभी इंडस्ट्री के सभी लोगों पर लागू होता है।”

सोनम ने अपनी बहन की कंपनी का उदाहरण देते हुए कहा “मेरी बहन (प्रोड्यूसर-डिजाइनर रिया कपूर) की कंपनी में कुछ इंटर्न्स हैं जो फ्रांस से सिफारिश से आए हैं। सिफारिश से मिली नौकरी भी नेपोटिज्म के अंदर ही आती है। मुझे समझ नहीं आता कि यह मुद्दा इतना बड़ा कैसे और क्यों बन गया ।

टीम टी वी न्यूज़,मुंबई 

Team TEA VEE News,Mumbai

Bollywood Maharashtra Mumbai