केंद्र सरकार ने जारी की नयी गाइडलाइंस, इलाज कराने के लिए कोरोना संक्रमण का टेस्ट कराना अनिवार्य नहीं।

केंद्र सरकार ने जारी की नयी गाइडलाइंस, इलाज कराने के लिए कोरोना संक्रमण का टेस्ट कराना अनिवार्य नहीं।

Spread the love

कोरोना को लेकर हर तरफ तबाही मची हुई है। इसकी चपेट में वो व्यक्ति भी आ रहे जिनको कोरोना नहीं हुआ है। किसी भी इलाज के लिए सबसे पहले कोरोना रिपोर्ट लानी होती थी। तो वही केंद्र सरकार की तरफ से रहत भरी खबर है।  अब अस्पतालों में इलाज कराने के लिए कोरोना संक्रमण का टेस्ट कराना अनिवार्य नहीं होगा। इस संबंध में केंद्र सरकार ने नई गाइडलाइंस जारी कर दी हैं, जिसके तहत अस्पतालों में मरीजों को भर्ती कराने की राष्ट्रीय नीति में संशोधन किया गया है।

गाइडलाइंसमें किये गए बदलाव।

पहले रिपोर्ट के चक्कर में मरीजों को काफी परेशान होना पड़ता था। वहीं, कई मरीजों ने तो अपनी जान भी गंवा दी थी। ऐसे में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने नई गाइडलाइंस जारी कर दीं। साथ ही, इस संबंध में राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के चीफ सेक्रेटरी को निर्देश दिए हैं। उनसे कहा गया है कि नई नीति को तीन दिन में अमल में लाया जाए। बता दें कि अब तक अस्पतालों में एडमिट होने के लिए कोविड पॉजिटिव रिपोर्ट अनिवार्य होती थी। नए बदलाव के तहत, अब रिपोर्ट की अनिवार्यता खत्म कर दी गयी है केंद्र सरकार की नई नीति के तहत संदिग्ध मरीजों को सस्पेक्टेड वॉर्ड में एडमिट किया जाएगा। ये वॉर्ड कोविड केयर सेंटर, पूर्ण समर्पित कोविड केयर सेंटर और कोविड अस्पतालों में भी बनाए जाएंगे। नई पॉलिसी में यह भी साफ किया गया है कि मरीजों को उनके राज्य के आधार पर भी इलाज देने से इनकार नहीं किया जा सकता।

Delhi LATEST NEWS HINDI national news Uttar Pradesh