2जी घोटाला:ए राजा और कनिमोझी समेत सभी आरोपी बरी |

2जी घोटाला:ए राजा और कनिमोझी समेत सभी आरोपी बरी |

Spread the love

(नई दिल्ली) दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने आज 2जी स्पेक्ट्रम मामले में सभी 17 आरोपियों को बरी कर दिया। जिनमें पूर्व दूरसंचार मंत्री ए राजा और द्रमुक नेता एम कनिमोझी मुख्य आरोपी थे। न्यायाधीश ओपी सैनी की अदालत ने अपने फैसले में कहा, सरकारी वकील लगे हुए आरोपों और दो पक्षों के बीच पैसे का लेन देन साबित करने में विफल रही है।

2जी घोटाला उन प्रमुख भ्रष्टाचारी घोटालों में से है जो पूर्व प्रधानमंत्री डॉ० मनमोहन सिंह के शासन के दौरान हुआ था। 2जी घोटाला साल 2010 में सामने आया जब भारत के महालेखाकार और नियंत्रक (कैग) ने अपनी एक रिपोर्ट में साल 2008 में बांटे गए स्पेक्ट्रम पर सवाल खड़े किए थे। रिपोर्ट में बताया गया था कि स्पेक्ट्रम की नीलामी नहीं की गई, बल्कि इसे कंपनियों को ‘पहले आओ, पहले पाओ’ के आधार पर बांटा गया था।इस पूरे घोटाले से राष्ट्रीय खजाने को 1.76 लाख करोड़ के नुकसान होने की जानकारी कैग ने दी थी। अगर नीलामी के आधार पर लाइसेंस बांटे जाते तो ये रुपए सरकार के खजाने में जाते।

2जी स्पेक्ट्रम घोटाले में कोर्ट ने तीन मामलों की सुनवाई की है, जिसमें दो सीबीआई और एक प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने दर्ज किया है।पहले के केस में सीबीआई ने पूर्व दूरसंचार मंत्री ए राजा और अन्य के खिलाफ अपने पद का दुरुपयोग करने तथा आपराधिक षडयंत्र रचने के मामले में दर्ज किया था। सीबीआई ने जो दूसरा केस दर्ज किया था वो एस्सार कंपनी और उसके प्रमोटर्स के खिलाफ था। इस मामले में तीसरा केस ईडी ने ए राजा सहित अन्य व्यक्तियों और कंपनियों के खिलाफ 200 करोड़ रुपए के मनी लॉन्ड्रिंग का दर्ज किया था।

कोर्ट के फैसले पर मामले के मुख्य आरोपी ए राजा ने कहा, ‘हमे इंसाफ मिला। आरोप झूठे थे। जबरन लगाए गए थे। राजनीतिक दुर्भावना से प्रेरित होकर मुकदमा किया गया। लेकिन हमें न्यायिक प्रकिया पर भरोसा था।’

पूर्व दूरसंचार मंत्री ए राजा पर आरोप था कि उन्होंने साल 2001 में तय की गई रेट के हिसाब से लाइसेंस नहीं बांटे हैं, जिससे सरकार को घाटा हुआ है। इसके साथ अधिकतर लाइसेंस उनकी पसंदीदा कंपनियों को दिए गए हैं। ए राजा को इस मामले में जेल भी काटनी पड़ी थी, जिसके बाद उन्हें जमानत मिल गई थी। इस मामले में तमिलनाडू के पूर्व मुख्यमंत्री एम करूणाधि की बेटी कनिमोझी को भी जेल हुई थी, कनिमोझी को भी बाद में जमानत मिल गई थी। इनके साथ ही कई कंपनियों और बड़ी हस्तियों पर घोटाले का आरोप लगा था।

टीम टी वी न्यूज़, दिल्ली

Team TEA VEE News,Delhi

Delhi national news