2016-17 में एनजीओ की विदेशी फंडिंग में आयी 36.5 % गिरावट |

2016-17 में एनजीओ की विदेशी फंडिंग में आयी 36.5 % गिरावट |

Spread the love

नई दिल्ली: पिछले वित्त वर्ष में गैर सरकारी संगठनों (NGOs) को विदेशों से मिलने वाली फंडिंग में भारी गिरावट आई है। गृह राज्यमंत्री किरेन रिजिजू के मुताबिक विदेशी फंडिंग 2015-16 में 17,773 करोड़ रुपये से घटकर 2016-17 में 6,499 करोड़ रुपये पर आ गई है। एक साल में कुल 36.5 प्रतिशत विदेशी फंड में गिरावट आयी है।

मंत्री महोदय ने कहा कि पिछले तीन वर्षों में गैर सरकारी संगठनों द्वारा प्राप्त विदेशी अनुदान की मात्रा 2014-15 में 15,299 करोड़ रुपए, 2015-16 में 17,773 करोड़ रुपए और 6,499 करोड़ रुपए में 2016-17 करोड रुपये रही।

रिजिजू ने बुधवार को राज्यसभा को बताया कि 2011 और 2017 के बीच गृह मंत्रालय ने विदेश अंशदान (विनियमन) अधिनियम के तहत 18,868 गैर सरकारी संगठनों को कानून का उल्लंघन करने के लिए उनका पंजीकरण रद्द किया। 2011 से 2014 के बीच कांग्रेस नीत यूपीए की सरकार थी जबकि मई 2014 से बीजेपी की अगुवाई वाली सरकार है।रिजिजू ने हालांकि उन एनजीओ के नामों का जिक्र नहीं किया जिनके पंजीकरण 2017 में रद्द किए गए। फिलहाल 10,000 एफसीआरए-रजिस्टर्ड एनजीओ ही ऑपरेशन में हैं, लेकिन केंद्र ने उन एनजीओ के खिलाफ कार्रवाई की है जिन्होंने नियमों का उल्लंघन किया।

एफसीआरए के तहत लाइसेंस प्राप्त करने वाले गैर सरकारी संगठन को के लिए यह अनिवार्य है की उन्हें हर साल विदेशों से प्राप्त चंदों और व्यय के रिकॉर्ड की रिटर्न फ़ाइल देनी होती है। हाल ही में इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय (इग्नू) और दिल्ली के गुरु तेग बहादुर खालसा कॉलेज सहित 4,842 गैर सरकारी संगठनों के लाइसेंस कैंसल कर दिए गए। इन एनजीओ को लगातार कहने के बावजूद 2010-11 से 2014-15 तक के ऐनुअल रिटर्न फाइल करने असफल रहने के लिए रद्द कर दिया गया।हाल ही में रिजिजू ने कहा था कि काले धन को सफेद करनेवाले राजनीतिक संगठनों और एनजीओज पर कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए।

टीम टी वी न्यूज़, दिल्ली

Team TEA VEE News,Delhi

Business Delhi Education national news