WhatsApp से डाटा लीक मामले में 31 दलालों के घर पर छापेमारी |

WhatsApp से डाटा लीक मामले में 31 दलालों के घर पर छापेमारी |

Spread the love

(मुंबई) भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (सेबी) ने शुक्रवार को सूचीबद्ध कंपनियों की मूल्य और आय के प्रति संवेदनशील सूचनाओं को सार्वजनिक किए जाने से पहले उन्हें व्हाट्सप्प और सोशल मीडिया पर लीक करने के मामले में बड़ी कार्रवाई की है।नियामक ने आज मुंबई, दिल्ली और बेंगलुरू में 30 से अधिक बाजार विश्लेषकों और डीलरों के परिसरों पर छापेमारे।

व्हाट्सएप पर 24 से ज्यादा कंपनियों का वित्तीय ब्योरा लीक होने के बाद सेबी और स्टॉक एक्सचेंज ने इन कंपनियों के स्टॉक की जांच शुरू कर दी है। स्टॉक एक्सचेंज के पास पहुंचने से पहले ही इन कंपनियों की रिजल्ट व्हट्सऐप पर लीक हो गया था। सेबी ने इस मामले में शामिल लोगों के बारे में जांच शुरू कर दी है।

जांच, प्रवर्तन और निगरानी से जुड़े लोगों सहित 70 सेबी के अधिकारियों की एक टीम ने जानकारी इकट्ठा करने के लिए दलालों और विश्लेषकों के परिसर में खोजों का आयोजन किया। जिसमें उन्होंने दस्तावेज, कंप्यूटर, मोबाइल और लैपटॉप जैसी चीज़े जब्त की।सेबी ने 2014 में सेबी अधिनियम के तहत आईटी को दी गई खोज और जब्ती शक्तियों के तहत इन खोजों और छापेमारी का आयोजन किया। विशेष अदालत से अनुमति प्राप्त करने के बाद सेबी सशक्त रूप से जांच-पड़ताल के दौरान दस्तावेजों को जब्त किये और खोजों को संचालित किया।

सेबी के एक अधिकारी ने कहा कि इन कंपनियों में ब्लूचिप कंपनियां भी शामिल हैं। सेबी फिलहाल अभी इन कंपनियों के पिछले 12 महीनों के ट्रेड डाटा,डाटा वेयरहाउस की मदद से आकलन कर रहा है। सेबी के नियमों के मुताबिक लिस्टेड कंपनियों के बारे में सूचनाएं स्टॉक एक्सचेंज के जरिए ही सार्वजनिक होनी चाहिए। ट्रेडिंग से जुड़ी सूचना से शेयर की कीमतें प्रभावित होती हैं। इस मामले में भी यह पता करने की कोशिश की जा रही है कि कहीं इनसाइडर ट्रेडिंग के जरिए नियमों को तोड़ा तो नहीं गया है। जांच के बाद स्टॉक एक्सचेंज इस मामले की रिपोर्ट सेबी को देंगे।

टीम टी वी न्यूज़, मुंबई

Team TEA VEE News,Mumbai

Maharashtra Mumbai Technology